लॉकआउट टैगआउट से संबंधित दुर्घटनाओं के कारण



Lockout Tagout Mistakes Employees Make | E-Square Blog in Hindi

May 07, 2021

क्या आप जानते हैं कि वर्तमान में मैन्युफैक्चरिंग उद्योगों में, कार्यस्थल में लागू किये जाने वाले नियमों में, OSHA के लॉकआउट टैगआउट नियमों का उल्लंघन, नंबर 1 स्थान पर है | प्रोडक्शन के दौरान, लॉकआउट टैगआउट से संबंधित खतरनाक परिस्थितियाँ अभी भी मेंटेनेंस व सर्विसिंग करते समय होने वाली बहुत सारी दुर्घटनाओं व हादसों का कारण बन रही हैं |


इन हादसों व दुर्घटनाओं के मुख्य कारण यह हैं -



1. मैनेजमेंट और कर्मचारियों में लोटो संबंधी जागरूकता की कमी होना |

एक सफल लॉकआउट टैगआउट प्रणाली को लागू करने के लिए, लोटो के महत्व के बारे में जागरूक होना बहुत ज़रूरी है | ज्ञान की कमी और लोटो प्रणाली की अनुपस्तिथि ही दुर्घटनाओं का कारण बनती है | यहाँ तक कि बार-बार होने वाली दुर्घटनाओं के पुनः घटित होने के बावजूद, मैनेजमेंट व कर्मचारी यह समझने को तैयार नहीं हैं कि यह दुर्घटनाएं उनके कार्यस्थल में उचित लोटो प्रणाली के नहीं होने के कारण हो रही हैं |


इसीलिए लॉकआउट टैगआउट को गंभीरता से लेना चाहिए और अपने कार्यस्थल में उचित लोटो प्रणाली को लागू कर उसका पालन करना चाहिए |



2. खतरनाक ऊर्जा को लॉकआउट ना करने की गलती करना |

अधिकांश उद्योगों में सबसे ज़्यादा होने वाले हादसे, मशीनों व उपकरणों की सर्विसिंग और मेंटेनेंस के दौरान ही होते हैं क्योंकि हम हर प्रकार की खतरनाक ऊर्जाओं को लॉक करने में विफल रहते हैं, जिससे कर्मचारियों को गंभीर चोटें लगती हैं, यहाँ तक की मृत्यु तक हो जाती है | संगठन द्वारा सबसे बड़ी गलती यह है कि वह केवल इलेक्ट्रिकल ऊर्जा को खतरनाक समझतें हैं व बाकी सभी ऊर्जाएं जैसे मकैनिकल, हाइड्रोलिक, न्युमेटिक, थर्मल आदि को नज़र-अंदाज़ कर देते हैं | इन ऊर्जाओं को, ना तो कभी गंभीरता से लिया जाता है और ना ही इन्हें आईसोलेट किया जाता है | इसीलिए सभी प्रकार की खतरनाक ऊर्जाओं को लॉकआउट ना करने की गलती ही बड़ी दुर्घटनाओं का कारण बनती है |



3. पावर सोर्स से मशीन को आइसोलेट ना करना |

मशीन को बंद करने के बाद भी, कई बार गंभीर दुर्घटनाएं हुई हैं | कोई भी मेंटेनेंस का काम शुरू करने से पहले, मशीन को सिर्फ बंद कर देना ही पर्याप्त नहीं है | OSHA के अनुसार, दुर्घटनाओं से बचने के लिए मशीनों को मेन ऊर्जा स्त्रोतों से बंद करके, लॉकआउट टैगआउट लागू कर आइसोलेट करने की आवश्यकता होती है | आइसोलेशन के लिए सही ऊर्जा स्त्रोतों की पहचान करना भी सबसे महत्वपूर्ण है |



4. स्टोर्ड एनर्जी को रिलीज ना करने की गलती करना |

मेंटेनेंस शुरू करने से पहले, स्टोर्ड एनर्जी को हमेशा ध्यान में रखना चाहिए व रिलीज़ करना चाहिए | मेंटेनेंस के दौरान, यह स्टोर्ड एनर्जी खतरनाक हादसों का कारण बन सकती है | ऊर्जा स्त्रोत को बंद करने मात्र से यह गारंटी नहीं मिलती है कि उपकरण पूरी तरह से सुरक्षित है | यदि कर्मचारी इन स्टोर्ड एनर्जी, जैसे - केमिकल, तरल पदार्थ, भाप, स्प्रिंग्स, एलिवेटेड पार्ट्स, प्रेशराईज़्ड व मूविंग गैसेस, आदि को बिना रिलीज़ किये सर्विस व मेंटेनेंस का काम शुरू करते हैं, तो इन स्टोर्ड एनर्जी के अचानक रिलीज़ होने से गंभीर दुर्घटनाएं हो सकती हैं |



5. मशीनों के आइसोलेशन व ज़ीरो एनर्जी स्टेट की जांच नहीं करना |

किसी भी मशीन पर काम करने के लिए, हमें उपकरणों में मौजूद हर प्रकार की ऊर्जा से जागरूक होना चाहिए | कई बार कर्मचारी यह सुनिश्चित ना करने की गलती करते हैं कि उन्होंने सभी ऊर्जा स्त्रोतों को आईसोलेट कर दिया है और क्या मशीन अब ज़ीरो एनर्जी स्टेट में है, जिसके कारण कई बार हादसे हो जाते हैं | इसीलिए, यह सुनिश्चित ज़रूर करें कि आपने सही मशीन के सही ऊर्जा स्त्रोत को आईसोलेट किया है और सर्विसिंग व मेंटेनेंस शुरू करने से पहले वह मशीन, इलेक्ट्रिकल व मकैनिकल, दोनों रूप से ज़ीरो एनर्जी स्टेट में है |



6. उपकरणों का अचानक किसी वजह से चालू हो जाना |

अगर कोई कर्मचारी मेंटेनेंस शुरू करने से पहले मशीन को सिर्फ बंद करता है, तो कोई भी अन्य व्यक्ति अनजाने में उस मशीन को फिर से चालू कर सकता है | कर्मचारियों के बीच कम्यूनिकेशन गैप व व्यवस्थित लोटो प्रणाली की कमी, कार्यस्थल पर होने वाले गंभीर हादसों का कारण बन सकती है | इसीलिए ऐसी दुर्घटनाओं से बचने के लिए लॉकआउट टैगआउट का पालन करना आवश्यक है |



7. मशीन स्पेसिफिक प्रोसीजर्स का पालन नहीं करना |

किसी भी मशीन पर लोटो लागू करते समय, खतरे बहुत होते हैं क्यूंकि उसमे कई प्रकार की ऊर्जाएं मौजूद होती हैं | लॉकआउट टैगआउट करते समय एक भी स्टेप की गलती खतरनाक दुर्घटनाओं का कारण बन सकती है | हर मशीन में विभिन्न ऊर्जाएं होती हैं जो आपस में इंटर-कनेक्टेड होती हैं | इसीलिए लॉकआउट के लिए विभिन्न स्टेप्स को क्रम से पालन करने की आवश्यकता होती है ताकि कहीं कोई स्टेप अनजाने में छूट ना जाए | इसीलिए एक सफल लोटो प्रणाली को लागू करने के लिए उचित मशीन स्पेसिफिक प्रोसीजर का होना व उनका पालन करना अति-आवश्यक है |



8. उचित ट्रेनिंग, ऑडिट व लोटो सिस्टम का नहीं होना |

एक प्रभावी लॉकआउट टैगआउट प्रणाली सिर्फ लॉक, टैग और उपकरणों के बारे में नहीं है | कार्यस्थल में उचित लॉकआउट प्रोसीजर्स , लॉकआउट टैगआउट दस्तावेज़, निरीक्षण, ट्रेनिंग व अन्य लॉकआउट टैगआउट सम्बंधित प्रक्रियाओं की कमी होना ही, कार्यस्थल में एक सफल लॉकआउट टैगआउट प्रणाली ना बन पाने का कारण होती हैं | लापरवाही और ग़ैर-अनुपालन के कारण होने वाली दुर्घटनाओं से बचने के लिए, संगठनों को लॉकआउट प्रोसीजर्स, ट्रेनिंग व ऑडिट के साथ एक उचित लोटो प्रणाली को लागू कर, उसका पालन ज़रूर करना चाहिए और नियमित रूप से उसमें सुधार करते रहना चाहिए |


इसीलिए प्रत्येक एम्प्लॉयर की ज़िम्मेदारी है कि वह लॉकआउट टैगआउट से सम्बंधित हादसों के इन कारणों को समझें व इनकी जांच करें | यह सुनिश्चित करें कि कर्मचारी हमेशा सुरक्षित हैं व कार्यस्थल में काम करते समय किसी जोखिम में तो नहीं हैं, क्यूंकि उन कर्मचारियों का भी अपना परिवार है, जिनकी देखभाल करना एम्प्लॉयर और उन कर्मचारियों की ज़िम्मेदारी है | इसीलिए, यह प्रत्येक संगठन का नैतिक कर्त्तव्य बनता है कि वह हर कर्मचारी को एक सुरक्षित व चिंतामुक्त वातावरण प्रदान करें |


घातक दुर्घटनाओं और हादसों से बचने के लिए व्यवस्थित लॉकआउट प्रोसीजर को लागू कर उसका पालन करना आवश्यक है | ई-स्क्वायर ने बहुत से संगठनों में, कम से कम समय में, सफल लॉकआउट टैगआउट प्रणाली को लागू कराने व उनके कार्यस्थल को सुरक्षित बनाने में उनकी मदद की है | आप भी, अपने कार्यस्थल को सुरक्षित बनाने के लिए ई-स्क्वायर (E-Square - +91-9810277868) से संपर्क कर सकते हैं | ई - स्क्वायर लोटो सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है |



Contact Info

E-Square Alliance Pvt. Ltd.





Download E-Square Catalogue right now!
Scan below QR Code..


COPYRIGHT © 2021 E-SQUARE ALLIANCE PVT. LTD. ALL RIGHTS RESERVED.